दो साल में 5,188 वर्ग किलोमीटर में ग्रीन कवर बढ़ा

 

भारत राज्य वन रिपोर्ट 2019: केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने 30 दिसंबर, 2019 को भारत में वन आवरण को दर्शाती एक रिपोर्ट जारी की। इस रिपोर्ट के अनुसार, पिछले दो वर्षों में देश में वन क्षेत्र में 5,188 वर्ग किमी की वृद्धि हुई है। रिपोर्ट में यह भी उल्लेख किया गया है कि यह हरित क्षेत्र देश के कुल भौगोलिक क्षेत्र का लगभग 25% है।

फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इंडिया (FSI) द्वारा इंडिया स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट 2019 तैयार की गई है। यह एक द्वैमासिक रिपोर्ट है। उपग्रह के माध्यम से जंगलों और पेड़ों की मैपिंग के बाद रिपोर्ट तैयार की जाती है। रिपोर्ट के अनुसार, दो वर्षों में वन क्षेत्र 3976 किलोमीटर और पेड़ों का क्षेत्रफल 1212 वर्ग किलोमीटर बढ़ा है।

मुख्य विचार

• रिपोर्ट के अनुसार, जिन तीन राज्यों में वन क्षेत्र सबसे अधिक बढ़े हैं उनमें कर्नाटक (1025 किमी), आंध्र प्रदेश (990 किमी) और केरल (823 किमी) शामिल हैं।
• इस रिपोर्ट में यह भी उल्लेख किया गया है कि पूर्वोत्तर राज्यों का वन क्षेत्र असम को छोड़कर कम हो गया है।
• हिमाचल, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और बिहार में वन आवरण में मामूली वृद्धि दर्ज की गई।
• रिपोर्ट से पता चलता है कि राजस्थान के बांझ क्षेत्रों में वन क्षेत्र भी बढ़ गया है।
• जम्मू और कश्मीर में 371 वर्ग किलोमीटर वनों का विकास हुआ, जबकि हिमाचल प्रदेश में 334 वर्ग किलोमीटर में वृद्धि हुई। वन क्षेत्र का किमी।
• रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के सभी पहाड़ी जिलों में 2,84,006 वर्ग किलोमीटर वन क्षेत्र है जो देश के सभी पहाड़ी जिलों के कुल भौगोलिक क्षेत्र का 40.30% है।

वन कवर में शीर्ष तीन राज्य

1 कर्नाटक (1025 वर्ग किमी)
2 आंध्र प्रदेश (990 वर्ग किमी)
3 केरल (823 वर्ग किमी।)

देश में क्षेत्रवार सबसे बड़ा वन कवर

1 मध्य प्रदेश
2 अरुणाचल प्रदेश
3 छत्तीसगढ़
4 ओडिशा
5 महाराष्ट्र

तटीय क्षेत्रों में मैंग्रोव बढ़ जाते हैं


इंडिया स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट 2019 ने कहा कि तटीय क्षेत्रों में मैंग्रोव भी बढ़े हैं। गुजरात, महाराष्ट्र और ओडिशा में इसकी वृद्धि हुई है। कुल मैन्ग्रोव क्षेत्र 4975 वर्ग किलोमीटर दर्ज किया गया है। मैंग्रोव वे वृक्ष हैं जो खारे पानी या अर्ध-खारे पानी में पाए जाते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, देश में 71.24 मिलियन टन कार्बन स्टॉक दर्ज किया गया है।

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *