भारत पाकिस्तान के ननकाना साहिब गुरुद्वारा में हिंसा की कड़ी निंदा करता है

 

भारत ने 3 जनवरी, 2020 को एक आधिकारिक बयान जारी किया, जिसमें पाकिस्तान में पवित्र ननकाना साहिब गुरुद्वारा में तबाही और तबाही के कृत्य की कड़ी निंदा की गई, जिससे कई सिख अंदर फंसे रह गए।

भारत ने पाकिस्तानी सरकार से सिख समुदाय के सदस्यों की सुरक्षा, सुरक्षा और कल्याण सुनिश्चित करने के लिए तत्काल कदम उठाने का आह्वान किया। भारत ने सरकार से पवित्र गुरुद्वारा के अपमान में लिप्त उपद्रवियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आग्रह किया और अल्पसंख्यक सिख समुदाय के सदस्यों पर हमला किया।

भारत ने पाकिस्तानी सरकार से पवित्र ननकाना साहिब गुरुद्वारा और उसके आसपास की पवित्रता की सुरक्षा और संरक्षण के सभी उपाय करने का भी आग्रह किया। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान से तत्काल हस्तक्षेप करने और ननकाना साहिब गुरुद्वारा के अंदर फंसे सिख श्रद्धालुओं का सुरक्षित बचाव सुनिश्चित करने और आसपास की भीड़ से पवित्र स्थान को बचाने का भी आग्रह किया।

पाकिस्तान के गुरुद्वारा ननकाना साहिब में क्या हुआ?

भारतीय विदेश मंत्रालय ने 3 जनवरी, 2020 को गुरुद्वारा ननकाना साहिब में ननकाना साहिब के मुस्लिम निवासियों के एक समूह पर पथराव के बाद बयान जारी किया। गुस्साई भीड़ ने गुरुद्वारा को घेर लिया और लगभग 30 सिख अंदर फंस गए। इलाके में स्थिति तनावपूर्ण बनी रही।

पृष्ठभूमि

भारत ने पाकिस्तान में पूजनीय ननकाना साहिब गुरुद्वारे में की गई बर्बरता पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि श्री गुरु नानक देव जी की जन्मस्थली ननकाना साहिब में अल्पसंख्यक सिख समुदाय के सदस्य हिंसा के कृत्यों के अधीन हैं।

2 जनवरी, 2020 को सिख समुदाय द्वारा गुरु गोविंद सिंह जयंती मनाए जाने के एक दिन बाद हिंसा हुई। रिपोर्टों के अनुसार, हिंसा एक मुस्लिम लड़के के परिवार द्वारा उकसाई गई थी, जिसने कथित तौर पर अपहरण कर लिया था और सिख लड़की जगजीत कौर को धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया था। अगस्त 2019 में इस्लाम में।

सिख समुदाय ने कथित जबरन धर्म परिवर्तन का विरोध किया था और स्थानीय मुस्लिमों ने इस पर नाराजगी जताई थी।

गुरुद्वारा ननकाना साहिब पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में ननकाना साहिब जिले में स्थित है। गुरुद्वारा और स्थान सिखों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि उनके पहले गुरु- गुरु नानक देव का जन्म 1469 में हुआ था।

 

Add a Comment

Your email address will not be published.