हेल्थ के लिए फायदेमंद रहते हैं भीगे हुए काजू, जानें कारण





बचपन से ही हम सभी सुनते आए हैं कि काजू को जब भी खाएं, भिगो कर ही खाएं. भिगोए हुए काजू आसानी के साथ पच जाते हैं और पेट को कोई नुकसान नहीं पहुंचा पाते. इसलिए कहा जाता है कि हमेशा भीगे हुए काजू खाना ही फायदेमंद रहता है. काजू में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है जो कि कब्ज की समस्या से बचाती है. इसके साथ ही भिगोए हुए काजू खाने से और भी कई फायदे मिलते हैं. चलिए जानते हैं काजू को भिगोकर खाने से हमें किस किस तरह के लाभ मिलते हैं.

फाइटिक एसिड हटाने में मिलती है मदद- काजू में फाइटिक एसिड पाया जाता है जो कि हर किसी के लिए बचाना आसान नहीं होता है. ऐसे में जब आप काजू को भिगोकर इसका सेवन करेंगे तो इससे फाइटटिक एसिड निकल जाएगा और आसानी से पचने भी लगेगा. फाइटिक एसिड कई बार पेट की समस्याओं को पैदा करता है. कुछ लोगों को इससे एलर्जी भी हो जाती है. ऐसे में तमाम समस्याओं से अपने बचाव के लिए आप काजू को भिगोकर ही खाएं .
शरीर में पोषक तत्वों को बढ़ाने में मदद – काजू में फाइटिक एसिड होता है जो कि शरीर में मिनरल के अवशोषण को रोकता है. शरीर में कुछ मिनरल्स की कमी हो सकती है. इन्हीं कमी को काजू को भिगोकर खाने से दूर किया जा सकता है.
वजन घटाने में मददगार- क्या आप जानते हैं कि भीगे हुए काजू खाने से आपको वेट लॉस करने में मदद मिलती है. जहां हार्मोन हेल्प भूख को नियंत्रण करने की बात आती है वहां काजू बेहद फायदेमंद होते हैं. भिगोए हुए कार्यों की कैलरी, प्रोटीन और फाइबर भरपूर होता है जो कि लंबे समय तक आपके पेट को भरा हुआ रखता है और इससे आपको भूख कम लगती है. वहीं फाइबर मेटाबॉलिज्म को भी सही करता है और वजन घटाने में भी मदद करता है .
कोलेस्ट्रोल को करें कंट्रोल- काजू को हमेशा फायदेमंद माना गया है. साथ ही साथ जब आपका कोलेस्ट्रॉल भड़ जाता है तो ऐसे में भी यह आपकी मदद करता है. जब आप काजू को भिगोकर खाते हैं तो यह कोलेस्ट्रोल कम करने में मददगार साबित होता है. काजू शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है. इसके अलावा काजू आवश्यक फैटी एसिड, पोटैशियम और एंटी ऑक्सीडेंट दिल की सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं. इसके साथ ही आपको कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने में भी इसकी मदद ले सकते हैं.

यह भी पढे –

बिग बॉस 16 की सबसे महंगी कंटेस्टेंट बनीं सुंबुल तौकीर खान, तेजस्वी प्रकाश को भी दी मात!






Previous articleचीन की यात्रा करेगा श्रीलंका प्रतिनिधिमंडल


Add a Comment

Your email address will not be published.