Astrological Remedies Try these small things to get progress and prosperity in life


आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में आमदनी अठन्नी खर्चा रुपैया हो गया है, इसके बाद भी लोग कड़ी मेहनत करते रहते हैं, ताकि वह अपना और अपने परिवार को एक खुशहाल जीवन दे सकें। वहीं कुछ ऐसे लोग होते हैं, जो कम मेहनत करते हैं, फिर भी सफल हो जाते हैं। शास्त्रों और ग्रंथों में जीवन यापन को सरल और सफल बनाने के लिए कई नियम बनाए गए हैं। इन नियमों के पालन करने से परिवार में सुख-शांति के साथ समृद्धि बढ़ती है और इसका लाभ पीढ़ियों तक मिलता है। आज हम आपको शास्त्रों में बताए गए कुछ ऐसे काम की जानकारी देंगे, जो आपके घर में खुशहाली और एकता के साथ समृद्धि भी लाएगी। आइए जानते हैं शास्त्रों में बताए गए इन नियमों के बारे में…

इन पांच को अवश्य कराएं भोजन

शास्त्रों में बताया गया है कि इन पांच जीवों को हर रोज भोजन कराना चाहिए। इनमें सबसे पहले खाना बनाते समय गाय के लिए रोटी निकालनी चाहिए। इसके बाद भोजन के अंत में कुत्ते के लिए रोटी निकालनी चाहिए। पक्षियों को दाना डालना चाहिए। मछलियों को आटे की गोली बनाकर खिलानी चाहिए। चीटियों को चीनी व आटा डालना चाहिए। इन पांचों को जब भी पूरे दिन में मौका मिले, भोजन जरूर कराना चाहिए। ऐसा करने से धन-धान्य की कमी नहीं रहती है और देव कृपा भी बनी रहती है।

इनकी पूजा करने से सात पीढ़ियों को मिलता है लाभ

शास्त्रों में बताया गया है कि जिस घर के पितृ और कुल देवी देवता प्रसन्न होते हैं, वहां सात पीढ़ियां हमेशा खुशहाल रहती हैं। हर कुल की एक देवी या देवता होते हैं, जो आराध्य होते हैं। जिनको विशेष तिथियों या किसी कार्यक्रम में आराधना और पूजा-पाठ की जाती है। वहीं पितृ के लिए तर्पण और श्राद्ध करना जरूरी होता है, जिससे वे संतुष्ट होते हैं। पुण्यतिथि पर पितरों का श्राद्ध, तर्पण और दान करने से उनकी कृपा हमेशा बनी रहती है। जिससे घर में खुशहाली बनी रहती है और पारिवारिक सदस्यों की तरक्की होती है।

किचन का रखें ध्यान

पूजा घर के बाद किचन घर में सबसे पवित्र स्थल माना जाता है क्योंकि यहां ईश्वर और परिजनों के लिए भोजन बनता है। हमेशा भोजन बनाने के बाद घर के मंदिर में भोग लगाएं, ऐसा करने से कभी भी अन्न और धन की कमी नहीं होती है। साथ ही किचन में भी भी जूठे बर्तन व खाना ना रखें और भोग लगाने के बाद ही भोजन अर्पित करें। साथ ही घर में किसी भी तरह की गंदगी, मकड़ी के जाले ना हों, इस बात का भी ध्यान रखें।

इस उपाय से परिवार का संकट होता है दूर

दान-पुण्य करना सनातन धर्म में मुख्य माना गया है। खासतौर पर जब आपको कोई भूखा मिले तो उसको भोजन अवश्य कराएं। अगर आपके घर पर कोई आया हो तो उसका सम्मान करें और भोजन-पानी की व्यवस्था जरूर करें। गरीबों को भोजन और अन्न दान करने से परिवार कई तरह के संकटों से बच जाता है और दान-पुण्य का लाभ कई पीढ़ियों का मिलता है। दान करने से परिवार पर अगर कोई समस्या आ रही होती है तो वह दूर चली जाती है।

इस उपाय से जीवन के हर क्षेत्र में मिलता है लाभ

सनातन धर्म के शास्त्र और ग्रंथों में संपूर्ण सृष्टि का रहस्य है। इनका हर रोज अध्ययन करने से मन शांत रहता है और चीजों को लेकर पूरी तरह तैयार रहते हैं। केवल इनके पढ़ने मात्र से प्रकृति और इंसान के बीच के रिश्ते समझने आ जाते हैं। वहीं तप करने से मन, शरीर और विचार पूरी तरह शुद्ध हो जाते हैं। हर रोज शास्त्रों और ग्रंथों का अध्ययन और तप करने से जीवन में तरक्की मिलती है और विचार हमेशा सकारात्मक बने रहते हैं, जिसका लाभ आपको जीवन के हर क्षेत्र में मिलता है।



Source link

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *