GK करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तरी सीरीज-63

GK करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तरी सीरीज-63

हिंदी सामान्य ज्ञान (GK in Hindi) तथा हिंदी करेंट अफेयर्स को समर्पित वेबसाइट है. यह वेबसाइट प्रतियोगिता परीक्षाओं जैसे SSC, IBPS, Banking, Rajasthan RPSC, RRB, UPSC इत्यादि प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण है

 

1. युकिया अमानो का हाल ही में निधन हुआ, वे किस अंतर्राष्ट्रीय संगठन के प्रमुख थे?
उत्तर – अंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेंसी
अंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेंसी (IAEA) के प्रमुख युकिया अमानो का निधन हो गया है, वे 2009 से IAEA के प्रमुख थे।
युकिया अमानो
युकिया अमानो एक जापानी राजनयिक थे, वे अंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेंसी (IAEA) के महानिदेशक थे। उनका जन्म 9 मई, 1947 को जापान का युगावारा में हुआ था। उन्होंने विएन्तिआने, वाशिंगटन तथा ब्रुसेल्स में जापानी दूतावास में कार्य किया। वे लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी से जुड़े हुए थे। उनका निधन 18 जुलाई, 2019 को हुआ, उनकी मृत्यु की घोषणा IAEA द्वारा 22 जुलाई, 2019 को की गयी।
अंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेंसी (IAEA)
यह एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है, इसका उद्देश्य परमाणु उर्जा के शांतिप्रिय कार्यों के लिए उपयोग को बढ़ावा देना है। इसकी स्थापना 1957 में एक स्वायत्त संस्था के रूप में की गयी थी। इसका मुख्यालय ऑस्ट्रिया की राजधानी विएना में स्थित है। यह अंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा के लिए वाचडॉग के रूप में कार्य करती है। हालांकि यह संयुक्त राष्ट्र से स्वतंत्र है परन्तु यह संयुक्त राष्ट्र महासभा और सुरक्षा परिषद् को अपनी रिपोर्ट देती है।
2. हाल ही में भारत ने चन्द्रमा के लिए कौन सा मिशन लांच किया?
उत्तर – चंद्रयान-2
इसरो ने चंद्रयान-2 को आज 2:43 पर श्रीहरिकोटा से लांच किया । इसे GSLV-MkIII की सहायता से लांच किया गया है। चंद्रयान-2 का लैंडर “विक्रम” 6-7 सितम्बर को चन्द्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा।
भारत का मिशन चंद्रयान-2 15 जुलाई, 2019 को लांच किया जाना था। लॉन्च से मात्र 56 मिनट पहले इसरो को चंद्रयान-2 में कुछ तकनीकी खराबी का पता चला, इसके तुरंत बाद काउंटडाउन को रोककर मिशन को स्थगित किया गया था।
चंद्रयान -2 के लैंडर का नाम “विक्रम” रखा गया है, जबकि इसके रोवर का नाम “प्रज्ञान” रखा गया है।
मिशन चंद्रयान-2
चंद्रयान-2 भारत का चंद्रमा पर दूसरा मिशन है, यह भारत का अब तक का सबसे मुश्किल मिशन है। यह 2008 में लांच किये गए मिशन चंद्रयान का उन्नत संस्करण है। चंद्रयान मिशन ने केवल चन्द्रमा की परिक्रमा की थी, परन्तु चंद्रयान-2 मिशन में चंद्रमा की सतह पर एक रोवर भी उतारा जायेगा।
इस मिशन के सभी हिस्से इसरो ने स्वदेश रूप से भारत में ही बनाये हैं, इसमें ऑर्बिटर, लैंडर व रोवर शामिल है। इस मिशन में इसरो पहली बार चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड रोवर को उतारने की कोशिश करेगा। यह रोवर चंद्रमा की सतह पर भ्रमण करके चन्द्रमा की सतह के घटकों का विश्लेषण करेगा।
चंद्रयान-2 को GSLV Mk III से लांच किया जायेगा। यह इसरो का ऐसा पहला अंतर्ग्रहीय मिशन है, जिसमे इसरो किसी अन्य खगोलीय पिंड पर रोवर उतारेगा। इसरो के स्पेसक्राफ्ट (ऑर्बिटर) का वज़न 3,290 किलोग्राम है, यह स्पेसक्राफ्ट चन्द्रमा की परिक्रमा करके डाटा एकत्रित करेगा, इसका उपयोग मुख्य रूप से रिमोट सेंसिंग के लिए किया जा रहा है।
6 पहिये वाला रोवर चंद्रमा की सतह पर भ्रमण करके मिट्टी व चट्टान के नमूने इकठ्ठा करेगा, इससे चन्द्रमा की भू-पर्पटी, खनिज पदार्थ तथा हाइड्रॉक्सिल और जल-बर्फ के चिन्ह के बारे में जानकारी मिलने की सम्भावना है फिलहाल इजराइल भी दिसम्बर, 2018 में चन्द्रमा पर मिशन उतारने की तैयारी कर रहा है। यह डाटा पृथ्वी तक ऑर्बिटर के द्वारा भेजा जायेगा फिलहाल इजराइल भी दिसम्बर, 2018 में चन्द्रमा पर मिशन उतारने की तैयारी कर रहा है।
चन्द्रमा की सतह पर सॉफ्ट-लैंडिंग करना इस मिशन का सबसे कठिन हिस्सा होगा, अब तक केवल अमेरिका, रूस और चीन ही यह कारनामा कर पाए हैं। इजराइल का स्पेसक्राफ्ट चन्द्रमा पर क्रेश हो गया था।
3. हाल ही में सुर्ख़ियों में रहे उझ और बसंतर पुल किस राज्य में स्थित हैं?
उत्तर – जम्मू-कश्मीर
केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में 1 किलोमीटर लम्बे उझ पुल तथा साम्बा में 617.40 मीटर लम्बे बसंतर पुल का उद्घाटन किया। इन दोनों पुलों का निर्माण सीमा सड़क संगठन (BRO) द्वारा प्रोजेक्ट संपर्क के तहत किया गया है।
मुख्य बिंदु
उझ पुल : इस पुल की लम्बाई एक किलोमीटर है, यह सीमा सड़क संगठन (BRO) द्वारा निर्मित किया जाने वाला सबसे लम्बा पुल है। इस पुल का निर्माण निर्धारित समय के भीतर किया है। इस पुल का निर्माण लगभग 50 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है। यह पुल उझ नाला पर परोल-कोरेपन्नु-राजपुरा सड़क पर स्थित है।
बसंतर पुल : इस पुल का निर्माण 41.7 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है। यह पुल राजपुरा-मदवाल-पंगादुर-फूलपुर सड़क पर बसंतर नाला पर स्थित है।
यह दोनों पुल कठुआ और साम्बा के गावों के लिए काफी महत्वपूर्ण है, इससे कनेक्टिविटी बेहतर होगी।
प्रोजेक्ट संपर्क
इसकी शुरुआत सीमा सड़क संगठन द्वारा 1975 में की गयी थी, इसका मुख्यालय जम्मू है। इसमें पीर पंजाल (उत्तर) से पठानकोट (दक्षिण) तथा पुंछ (पश्चिम) से डलहौज़ी (पूर्व) तक का 2200 किलोमीटर का सड़क नेटवर्क शामिल है।
BRO सीमा से लगे इलाकों में सडक का निर्माण व मरम्मत का कार्य करता है, यह स्थानीय लोगों तथा सेना दोनों के लिए उपयोगी है।
4. “इंडो-पाक रिलेशंस: बियॉन्ड पुलवामा एंड बालाकोट” नामक पुस्तक के लेखक कौन हैं?
उत्तर – डॉ. यू.वी. सिंह
“इंडो-पाक रिलेशंस : बियॉन्ड पुलवामा एंड बालाकोट” नामक पुस्तक के लेखक डॉ. यू.वी. सिंह हैं। इस पुस्तक में भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव के कारणों पर प्रकाश डाला गया है।
5. एशियाई मुक्केबाजी संघ के प्रतियोगिता आयोग का चेयरमैन किसे नियुक्त किया गया है?
उत्तर – किशन नरसी
भारत के किशन नरसी को एशियाई मुक्केबाजी संघ के प्रतियोगिता आयोग का चेयरमैन नियुक्त किया गया है। किशन नरसी पूर्व आल-इंडिया यूनिवर्सिटी के चैंपियन मुक्केबाज़ हैं। वे एक अंतर्राष्ट्रीय रेफ़री तथा अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (AIBA) की कार्यकारी समिति के उपाध्यक्ष हैं। वे अधिकारी के रूप में तीन बार ओलिंपिक में कार्य कर चुके हैं। वे बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ़ इंडिया के संस्थापक अंतरिम अध्यक्ष भी हैं।
6. म्यूजिक अकैडमी के संगीत कलानिधि पुरस्कार के लिए किसे चुना गया है?
उत्तर – एस. सौम्या
11वें DefExpo कर्नाटक संगीत शैली की प्रसिद्ध गायिका एस. सौम्या को संगीत कलानिधि पुरस्कार 2019 के लिए चुना गया है, यह पुरस्कार उन्हें कर्नाटक संगीत में उनके बहुमूल्य योगदान के लिए दिया जा रहा है। यह पुरस्कार उन्हें 1 जनवरी, 2020 को प्रदान किया जायेगा।
अन्य पुरस्कार
संगीत कला आचार्य पुरस्कार – यह पुरस्कार सीता नारायणन तथा एम.एस. शीला को प्रदान किया जायेगा।
टी.टी.के. पुरस्कार – यह पुरस्कार नागास्वरम वादक व्यासरपड़ी कोतान्दरमण और राजकुमार भारती को प्रदान किया जायेगा।
म्यूजिकोलोजिस्ट पुरस्कार – यह पुरस्कार आरती एन. राव को दिया जायेगा।
नृत्य कलानिधि पुरस्कार – यह पुरस्कार नृत्यांगना प्रियदर्शिनी गोविन्द को प्रदान किया जायेगा।
संगीत कलानिधि पुरस्कार
यह प्रतिष्ठित पुरस्कार मद्रास संगीत अकादमी द्वारा कर्नाटक संगीत शैली से जुड़े संगीतकारों को प्रदान किया जाता है। संगीत कलानिधि कर्नाटक संगीत के सबसे उच्च पुरस्कारों में से एक माना जाता है। इस पुरस्कार की शुरुआत 1942 में हुई थी।
एस. सौम्या
वे संजय सुब्रमण्यम के बाद इस पुरस्कार को प्राप्त करने वाली सबसे युवा संगीतकार हैं। वे डॉ. एस. स्वामीनाथन तथा टी. मुक्त की शिष्या हैं। उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की उपाधि भी हासिल की है।
7. राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस संघ (CTTF) का चेयरमैन किसे चुना गया है?
उत्तर – विवेक कोहली
विवेक कोहली को राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस संघ (CTTF) का चेयरमैन चुना गया है। उन्होंने इंग्लैंड के एलन रैनसम को चुनाव में हराया। भारतीय टेबल टेनिस संघ (TIFI) के महासचिव को सर्वसम्मति से CTTF का महसचिव नियुक्त किया गया है।
8. 2019 इंटरनेशनल शार्क मीट का आयोजन किस भारतीय शहर में किया जायेगा?
उत्तर – कोच्ची
केरल में चार दिवसीय इंटरनेशनल शार्क मीट 2019 का आयोजन किया जायेगा, इसका आरम्भ 24 जुलाई से होगा। यह शोधकर्ताओं के लिए एक प्लेटफार्म उपलब्ध करवाएगा। इस इवेंट में यूनाइटेड किंगडम, ऑस्ट्रेलिया, मेक्सिको, ब्राज़ील, अर्जेंटीना, इंडोनेशिया, मलेशिया, पेरू, इटली, श्रीलंका, नाइजीरिया, सोमालिया, म्यांमार तथा नामीबिया से विशेषज्ञ हिस्सा लेंगे।
9. 21वीं राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैंपियनशिप में महिला एकल वर्ग का खिताब किसने जीता?
उत्तर – अयहिका मुखर्जी
भारत ने 21वीं राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैंपियनशिप में 7 स्वर्ण पदक जीते। महिला एकल वर्ग में स्वर्ण पदक अयहिका मुखर्जी ने जीता, जभी पुरुष वर्ग में स्वर्ण पदक हरमीत देसी ने जीता। भारतीय टेबल टेनिस टीम सर्वाधिक पदक जीते, भारत ने 7 स्वर्ण, 5 रजत तथा 3 कांस्य पदक जीते। इंग्लैंड ने दो रजत तथा तीन कांस्य पदक जीते। सिंगापुर ने 6 कांस्य पदक तथा मलेशिया व नाइजीरिया ने एक-एक कांस्य पदक जीता।
10. काराकास में गुट निरपेक्ष आंदोलन की मंत्रिस्तरीय बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व किसने किया?
उत्तर – सैय्यद अकबरुद्दीन
वेनेज़ुएला की राजधानी काराकास में गुट निरपेक्ष आंदोलन की मंत्रिस्तरीय बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व संयुक्त राष्ट्र में भारत के दूत सैय्यद अकबरुद्दीन द्वारा किया गया। भारत ने इस बैठक में पाकिस्तान द्वारा कश्मीर मुद्दा उठाये जाने का कड़ा विरोध किया है। गुट निरपेक्ष आंदोलन की आन्दोलन 1961 में बेलग्रेड में की गयी थी, इसमें भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु तथा यूगोस्लाविया के राष्ट्रपति जोसिप ब्रोज़ टिटो ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

Add a Comment

Your email address will not be published.