GK करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तरी सीरीज-98

GK करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तरी सीरीज-98

हिंदी सामान्य ज्ञान (GK in Hindi) तथा हिंदी करेंट अफेयर्स को समर्पित वेबसाइट है. यह वेबसाइट प्रतियोगिता परीक्षाओं जैसे SSC, IBPS, Banking, Rajasthan RPSC, RRB, UPSC इत्यादि प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण है

 

1. भारतीय रिज़र्व बैंक ने एटीएम शुल्कों की समीक्षा के लिए किसकी अध्यक्षता में समिति का गठन किया है?
उत्तर – वी.जी. कन्नन
भारतीय रिज़र्व बैंक ने हाल ही में वी.जी. कन्नन (इंडियन बैंक्स एसोसिएशन के चीफ एग्जीक्यूटिव) की अध्यक्ष में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया, यह समिति एटीएम शुल्कों की समीक्षा करेगी।
मुख्य बिंदु
भारत में लगभग 2 लाख एटीएम है। अप्रैल 2019 के अंत तक देश में 88.47 करोड़ डेबिट कार्ड तथा 4.8 करोड़ डेबिट कार्ड हैं। अप्रैल में डेबिट कार्ड के द्वारा एटीएम में 80.9 ट्रांजेक्शन की गयीं।
पिछले कुछ वर्षों में एटीएम के उपयोग में काफी वृद्धि हुई है, इसलिए एटीएम शुल्कों में काफी समय से बदलाव की मांग की जा रही है।
इस समिति की अध्यक्षता वी.जी. कन्नन द्वारा की जायेगी। इस समिति के अन्य सदस्य हैं : दिलीप अस्बे (भारतीय राष्ट्रीय भुगतान कारपोरेशन के सीईओ), गिरी कुमार नायर (भारतीय स्टेट बैंक के CGM), संजीव पटेल (टाटा कम्युनिकेशन पेमेंट्स सोल्यूशंस के सीईओ), एस. संपत कुमार (HDFC बैंक के लायबिलिटी उत्पाद के ग्रुप हेड) तथा के. श्रीनिवास (एटीएम उद्योग महासंघ के डायरेक्टर) ।
यह समिति पहली बैठक के दो महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट RBI को सौंप देगी।

2. केंद्र सरकार ने किस वर्ष तक सभी को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाने का लक्ष्य रखा है?
उत्तर – 2024
केंद्र सरकार ने 2024 तक देश में सभी लोगों को स्वच्छ पेयजल की सुविधा प्रदान करने का लक्ष्य रखा है। 2024 तक 100% घरों को पाइप के द्वारा पेयजल मुहैया करवाया जायेगा।
मुख्य बिंदु
भारत में पिछले कुछ समय पर प्रति व्यक्ति जल उपलब्धता में कमी आई है। 1950 में प्रति व्यक्ति जल उपलब्धता 5,000 लीटर थी, अब यह कम होकर 1400 लीटर ही रह गयी है। 1950 के बाद जनसख्या में तीन गुना इजाफा हुआ है जबकि जल की उपलब्धता कमी आई है।
उत्तर प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, झारखण्ड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता 5% से भी कम है। सिक्किम देश का एकमात्र ऐसा राज्य है जहाँ पर 99% घरों में नल के द्वारा पानी पहुँचाया गया है।
आवश्यकता
भारत में ग्रामीण क्षेत्र कृषि तथा घरेलु उपयोग के लिए मानसून पर निर्भर है, इसलिय जल के स्थायी साधन व जल संरक्षण की काफी अधिक आवश्यकता है। जल की मांग व आपूर्ति के बीच अंतर काफी अधिक है। नव गठित जल मंत्रालय ने अधिसूचित करके कहा है कि घरों को पाइप के द्वारा पानी पहुंचाने के साथ-साथ जल संरक्षण पर भी अधिक बल दिया जायेगा। भारतीय संविधान की सातवीं अनुसूची के मुताबिक “जल’ का विषय राज्य सूची में आता है।
जल शक्ति मंत्रालय
केंद्र सरकार ने “जल शक्ति” नामक नए मंत्रालय का निर्माण किया है, इस मंत्रालय का निर्माण जल संसाधन, नदी विकास व पुनर्जीवन मंत्रालय व पेयजल व स्वच्छता मंत्रालय का विलय करके किया गया है। इसके द्वारा जल प्रबंधन व विनियमन एक भी विभाग द्वारा किया जाएगा।
2014 में नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बनीं सरकार ने मिशन स्वच्छ गंगा को पर्यावरण व वन मंत्रालय से अलग करके जल संसाधन में शामिल किया था। 2019 लोकसभा चुनाव अभियान के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने जल सम्बन्धी मुद्दों के लिए एकीकृत मंत्रालय के निर्माण का वादा किया था।
जल मंत्रालय को भारतीय जनता पार्टी के सांसद गजेन्द्र सिंह शेखावत को सौंपा गया है जबकि राम लाल कटारिया को राज्य मंत्री नियुक्त किया गया है।
भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान “नल से जल” योजना का वादा किया गया था, इसका उद्देश्य सभी घरों में पाइप के द्वारा पेयजल उपलब्ध करना है, यह योजना सरकार के जल जीवन मिशन का हिस्सा होगी।

3. हाल ही में राजनाथ सिंह सूर्य का निधन हुआ, वे किस क्षेत्र से जुड़े हुए थे?
उत्तर – पत्रकारिता
राजनाथ सिंह सूर्य एक पत्रकार थे, वे राज्यसभा के पूर्व सदस्य भी थे। उनका निधन 13 जून, 2019 को उत्तर प्रदेश के लखनऊ में हुआ।

4. 2018 के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार किसे प्रदान किया गया?
उत्तर – अमिताव घोष
प्रसिद्ध अंग्रेजी लेखक अमिताव घोष को ज्ञानपीठ पुरस्कार 2018 प्रदान किया गया, उन्हें यह सम्मान अंग्रेजी साहित्य में दिए गये योगदान के लिए दिया गया है। उन्हें यह सम्मान पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गाँधी द्वारा प्रदान किया गया, वे इस समारोह के मुख्य अतिथि थे। इस सम्मान समारोह का आयोजन नई दिल्ली के हैबिटैट सेंटर में किया गया।
रोचक तथ्य : अमिताव घोष ज्ञानपीठ पुरस्कार को जीतने वाले पहले अंग्रेजी लेखक हैं, इससे पहले यह पुरस्कार केवल भारतीय भाषाओँ के लेखकों ने ही जीता है।
अमिताव घोष
अमिताव घोष का जन्म 1956 कलकत्ता में हुआ था, उन्होंने दून स्कूल देहरादून, सेंट स्टीफंस कॉलेज,दिल्ली विश्वविद्यालय तथा दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से अपनी पढ़ाई की है। उन्हें 2007 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। उन्हें 2009 में रॉयल सोसाइटी ऑफ़ लिटरेचर के फेलो के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्हें 2015 में फोर्ड फाउंडेशन आर्ट ऑफ़ चेंज फेलो नामित किया गया था।
अमिताव घोष की रचनाएँ
The Circle of Reason (1986), The Shadow Lines (1988), The Calcutta Chromosome (1995), The Glass Palace (2000), The Hungry Tide (2004), Sea of Poppies (20008), River of Smoke (2011), Flood of Fire (2015).
Antique Land (1992), Dancing in Cambodia and at Large in Burma (1998), Countdown (1999), The Imam and the Indian (2002), The Great Derangement: Climate Change and the Unthinkable (2016).
ज्ञानपीठ पुरस्कार
इस पुरस्कार की स्थापना 1961 में की गयी थी। इस पुरस्कार के द्वारा भारतीय ज्ञानपीठ संविधान में शामिल 22 भारतीय भाषाओँ में रचना करने वाले साहित्यकारों को सम्मानित करती है। शुरू में इस पुरस्कार के लिए अंग्रेजी भाषा को शामिल नहीं किया गया था, परन्तु 49वें ज्ञानपीठ पुरस्कार के बाद अंग्रेजी भाषा को भी इस पुरस्कार के लिए शामिल किया गया। इस पुरस्कार के विजेताओं को 11 लाख रुपये नकद राशि, प्रशस्ति पत्र तथा देवी सरस्वती की कांस्य प्रतिमा प्रदान की जाती है। पहला ज्ञानपीठ पुरस्कार प्रसिद्ध मलयालम जी.एस. कुरूप को प्रदान किया गया था।

5. 10वें इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ़ मेलबोर्न में मुख्य अतिथि किसे चुना गया है?
उत्तर – शाहरुख़ खान
अभिनेता शाहरुख़ खान को 10वें इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ़ मेलबोर्न के लिए मुख्य अतिथि चुना गया है। इस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन 8 से 17 अगस्त, 2019 के दौरान किया जायेगा। यह फिल्म फेस्टिवल विक्टोरिया सरकार की पहल है, इसका उद्देश्य विक्टोरिया तथा भारतीय फिल्म उद्योग के बीच संबंधों को मज़बूत बनाना है।

6. हाल ही में किस संगठन ने हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डेमोनस्ट्रेटर व्हीकल का परीक्षण किया?
उत्तर – रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन (DRDO)
रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन (DRDO) ने हाल ही में ओडिशा में नए हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डेमोनस्ट्रेटर व्हीकल (HSTDV) का परीक्षण किया। यह परीक्षण बंगाल की खाड़ी में अब्दुल कलाम द्वीप पर किया गया। राडार से प्राप्त सूचना के अनुसार यह परीक्षण सफल रहा। यह परीक्षण भारत के हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल सिस्टम के विकास के लिए ज़रूरी है।
हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डेमोनस्ट्रेटर व्हीकल (HSTDV) तकनीक की सहायता से क्रूज व्हीकल 6 मैक (ध्वनी की गति से 6 गुणा अधिक तेज़) की गति से आगे बढ़ सकता है। इस तकनीक का उपयोग दो उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। इसकी सहायता से बहुत कम लागत पर छोटे उपग्रहों को लांच किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त इसका उपयोग लम्बी दूरी की क्रूज मिसाइलों को लांच करने के लिए भी किया जा सकता है। इस तकनीक को DRDO ने इजराइल और यूनाइटेड किंगडम की सहायता से बनाया है। हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डेमोनस्ट्रेटर व्हीकल (HSTDV) मात्र 20 सेकंड की उड़ान में 31 किलोमीटर की ऊंचाई तक जा सकता है। इसमें स्क्रेमजेट इंजन का उपयोग किया गया है।

7. भारतीय नौसेना ने किस शहर में समुद्री सूचना साझा कार्यशाला का आयोजन किया?
उत्तर – गुरुग्राम
भारतीय नौसेना ने हाल ही में मेरीटाइम इनफार्मेशन शेयरिंग वर्कशॉप 2019 का आयोजन “Information Fusion Centre-Indian Ocean Region (IFC-IOR) के तहत हरियाणा के गुरुग्राम में किया। इस दो दिवसीय इवेंट का उद्घाटन वाईस एडमिरल एम.एस. पवार ने किया।
मुख्य बिंदु
इस कार्यशाला में हिन्द महासागर क्षेत्र के 29 देशों के 41 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इस कार्यशाला में हिन्द-प्रशांत क्षेत्र के विभिन्न मुद्दों व चुनौतियों पर चर्चा की गयी।
Information Fusion Centre-Indian Ocean Region (IFC-IOR)
इसे 22 दिसम्बर, 2018 को तत्कालीन रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा हरियाणा के गुरुग्राम में सूचना प्रबंधन व विश्लेष्ण केंद्र में लांच किया गया था। इसका उद्देश्य हिन्द महासागर क्षेत्र में विभिन्न देशों के साथ समुद्री सुरक्षा के लिए कार्य करना है।
विश्व का 75% समुद्री व्यापार हिन्द महासागर क्षेत्र से होकर गुज़रता है, इसलिए यह क्षेत्र वैश्विक व्यापार तथा आर्थिक समृद्धि के लिए आवश्यक है।
Information Fusion Centre-Indian Ocean Region आपदा प्रबंधन तथा पनडुब्बी सुरक्षा सूचना इत्यादि जैसे कार्य करता है। अब तक यह केंद्र 16 देशों तथा 13 अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सुरक्षा एजेंसियों के साथ लिंक स्थापित कर चुका है।

8. किस भारतीय को यूनिसेफ के डैनी काये मानवाधिकार पुरस्कार प्रदान किया जायेगा?
उत्तर – प्रियंका चोपड़ा
यूनिसेफ ने अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा को डैनी काये मानवाधिकार पुरस्कार के लिए चुना है। प्रियंका चोपड़ा बच्चों की शिक्षा के लिए काफी कार्य करती हैं। वे यूनिसेफ की गुडविल एम्बेसडर हैं। वे संयुक्त राष्ट्र के “गर्ल अप” अभियान का हिस्सा भी हैं। वे भारत में विभिन्न NGO से जुड़ी हुई हैं जो बालिकाओं की शिक्षा, स्वास्थ्य व सुरक्षा के लिए कार्य करते हैं।
यूनिसेफ (United Nations International Children’s Emergency Fund)
यूनिसेफ बाल अधिकारों के लिए संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी है। इसकी स्थापना 11 दिसम्बर, 1946 को हुई थी। इसका मुख्यालय अमेरिका के न्यूयॉर्क में स्थित है। वर्तमान में यूनिसेफ के अध्यक्ष तोरे हेट्रेम हैं। यह संस्था विश्व भर में बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य तथा कल्याण के लिए कार्य करती है।
डैनी काये मानवाधिकार पुरस्कार
इस पुरस्कार का नाम अभिनेता डैनी काये के नाम पर रखा गया है, वे अमेरिकी अभिनेता, गायक व डांसर थे। वे 1954 में यूनिसेफ के पहले गुडविल एम्बेसडर बने थे।

9. अंतर्राष्ट्रीय अल्बिनिज्म जागरूकता दिवस कब मनाया जाता है?
उत्तर – 13 जून
प्रतिवर्ष 13 जून को अंतर्राष्ट्रीय अल्बिनिज्म जागरूकता दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य अल्बिनिज्म से प्रभावित लोगों के विरुद्ध होने वाले हमलों तथा भेदभाव के प्रति जागरूकता उत्पन्न करना है। अंतर्राष्ट्रीय अल्बिनिज्म जागरूकता दिवस 2019 की थीम “मजबूती से खड़े हुए” (Still Standing Strong) है। इसके द्वारा विश्व भर के सभी लोगों को अल्बिनिज्म से प्रभावित लोगों के साथ खड़ा होने का आवाहन किया गया है।
अल्बिनिज्म क्या है?
यह एक दुर्लभ तथा वंशानुगत रोग है, इस रोग से पीड़ित व्यक्ति की त्वचा, बाल तथा आँखों में आंशिक अथवा पूर्ण रूप से मेलेनिन पिगमेंट नहीं होता। अल्बिनिज्म किसी भी लिंग अथवा नस्ल के व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है। इसका कोई उपचार नहीं है। त्वचा में मेलेनिन न होने के कारण प्रभावित व्यक्ति सनबर्न तथा त्वचा कैंसर से पीड़ित हो सकता है। यह फोटोफोबिया, अम्ब्लायोपिया, निस्टैगमस जैसे चक्षु रोग से भी सम्बंधित है।
अल्बिनिज्म से प्रभावित व्यक्ति की त्वचा पर सफ़ेद धब्बे होते हैं अथवा कई बार पूर्ण त्वचा ही सफ़ेद हो जाती है। इसके कारण अल्बिनिज्म से पीड़ित लोगों को कई प्रकार के भेदभाव का सामना करना पड़ता है।
मेलेनिन : यह एक किस्म का जटिल पॉलीमर होता है, यह एमिनो एसिड टायरोसीन से उत्पन्न होता है। इसके द्वारा त्वचा तथा बालों का रंग निर्धारित होता है।
पृष्ठभूमि
कनाडा की एक गैर-सरकारी संस्था “अंडर द सेम सन” ने युसूफ मोहम्मद इस्माइल बारी-बारी (संयुक्त राष्ट्र में सोमालियन मिशन के एम्बेसडर) के साथ मिलकर अल्बिनिज्म से प्रभावित लोगों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए प्रस्ताव को पारित करने का प्रयास किया। 13 जून, 2013 को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग ने अल्बिनिज्म पर पहले प्रस्ताव को पारित किया। 26 जून, 2014 को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग ने प्रस्ताव 26/10 के द्वारा ने 13 जून को अंतर्राष्ट्रीय अल्बिनिज्म जागरूकता दिवस के रूप में मनाये जाने की घोषणा की। बाद में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 18 दिसम्बर, 2014 को प्रस्ताव 69/170 के द्वारा 13 जून को अंतर्राष्ट्रीय अल्बिनिज्म जागरूकता दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।

10. शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन का आयोजन किस शहर में किया जा रहा है?
उत्तर – बिश्केक
किर्गिजस्तान की राजधानी बिश्केक में 14-15 जून, 2019 को शंघाई सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जायेगा। इस शिखर सम्मेलन में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी हिस्सा लेंगे। इस शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी चीन के राष्ट्रपति तथा रूस के राष्ट्रपति समेत कई अन्य राष्ट्राध्यक्षों के साथ द्विपक्षीय बैठकों में भी हिस्सा लेंगे।
शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ)
यह एक राजनीतिक और सुरक्षा समूह है जिसका मुख्यालय बीजिंग में है। रूस, चीन, किर्गिज गणराज्य, कजाखस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपतियों ने वर्ष 2001 में शंघाई में एक शिखर सम्मेलन में एससीओ की स्थापना की थी। यह 40% से अधिक मानवता एवं वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 20% हिस्से का प्रतिनिधित्व करता हैं। अफगानिस्तान, बेलारूस, ईरान और मंगोलिया वर्तमान में इसके पर्यवेक्षक है। वर्ष 2005 में भारत और पाकिस्तान को इस समूह के पर्यवेक्षकों के तौर पर शामिल किया गया था. दोनों देशों को वर्ष 2017 में पूर्ण सदस्य बनाया गया।

Add a Comment

Your email address will not be published.