Monsoon Forecast 2022 Monsoon Kab Aayega | Monsoon Forecast 2022 इस साल खूब बरसेगा मानसून, जाने आपके शहर में कब होगी बरसात – Planet Prediction



monsoon 2022

चिलचिलाती गर्मी के बीच लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा है कि आखिर कब बदलेगा मौसम कब लगेंगे बादल और कब बरसेगी बरसात। आपके इन्हीं सवालों के जवाब लेकर आए हैं  ऐस्ट्रॉलजर सचिन मल्होत्रा के साथ। इनका कहना है कि मेदिनी ज्योतिष में गुरु, शुक्र, चंद्रमा और बुध को जलीय ग्रह माना जाता है। बरसात के मौसम में या उससे कुछ पूर्व यह शुभ ग्रह यदि सूर्य के आगे या पीछे हों और कोई पाप ग्रह (शनि, मंगल, राहु और केतु) सूर्य के आगे गोचर न कर रहा हो तब वर्षा समय पर या समय से पूर्व हो सकती है।

भारत में दक्षिण पश्चिम मानसून सामान्यतः 1 जून तक केरल में पहुंचता है, 10 जून तक समूचे दक्षिण भारत को भिगोता हुआ मुंबई तक पहुंचता है, 15 जून तक रायपुर तथा पटना तक मानसून पहुंच जाता है और लगभग 1 जुलाई तक दिल्ली और 15 जुलाई तक समूचे भारत को मानसून बारिश से सराबोर कर देता है। यह मानसून के बरसने की समयावधि मौसम विभाग की दीर्घकालीन औसत पर आधारित है। किन्तु हर वर्ष मानसून इन सामान्य तिथियों तक नहीं पहुंच पाता, क्योंकि अलग-अलग वर्षों में बदलती ग्रह स्थिति और मौसम के अन्य कारक वर्षा के समय को आगे या पीछे ले जाते हैं। इस वर्ष की ज्योतिषीय गणना मानसून के समय से पहले पहुंचने तथा सामान्य से अधिक वर्षा होने की संभावना को दिखा रहे हैं।

सूर्य की चाल कर रही है समय से पहले मानसून आने का इशारा

इस वर्ष वैशाख और ज्येष्ठ के महीनों में सूर्य से अगली राशियों में किसी पाप ग्रह का गोचर नहीं हो रहा है जो मानसून के अपने तय समय से पूर्व पहुंचने का अच्छा ज्योतिषीय योग है l 15 मई को सूर्य के वृषभ राशि में प्रवेश की कुंडली में बुध की युति सूर्य के साथ है तथा सूर्य से पीछे मेष राशि में राहु तथा मीन में शुक्र और गुरु मानसून के तय समय 1 जून, से कुछ पहले केरल में पहुंचने का संकेत दे रहे हैं l  मंगल भी गोचर में 17 मई को मीन राशि में चले आएंगे। यहां उनकी युति जलीय ग्रह गुरु से होगी।  मंगल मीन राशि में 45 दिनों तक गोचर करेंगे , इस समय अवधि में मानसून के अपने तय समय से मुंबई (10 जून), रायपुर तथा पटना (15 जून) और दिल्ली (1 जुलाई) से कुछ पूर्व पहुंचने की संभावना दिखती है।

मानसून की कुंडली दे रही है जोरदार बारिश के संकेत

सूर्य के मिथुन राशि में आर्द्र नक्षत्र में प्रवेश के समय बनने वाली कुंडली से मानसून (जून से सितंबर) की समयावधि में वर्षा के परिमाप का आंकलन किया जाता है l सूर्य आर्द्र नक्षत्र में 22 जून को दोपहर 11 बजकर 44 मिनट पर भारतीय मानक समय के अनुसार प्रवेश करेंगे तब बुधवार, कृष्ण नवमी तिथि, रेवती नक्षत्र तथा शोभन नाम का योग बन रहा होगा l सिंह लग्न की कुंडली में चंद्रमा मीन राशि में गुरु और मंगल के साथ अष्टम भाव (विनाश) में युत होकर असामान्य वर्षा से जन-धन की हानि का योग बना रहे होंगे l आर्द्र नक्षत्र में प्रवेश के समय सूर्य पर मंगल की दृष्टि उत्तर भारत में जून के महीने में सामान्य से अधिक गर्मी पड़ने का योग है l बाद में 16 जुलाई को सूर्य के कर्क राशि में प्रवेश के समय मंगल और शनि की सूर्य पर दृष्टि आसामान्य वर्षा से जन-धन की हानि का योग बना रही है l इस वर्ष 15 जुलाई से ले कर 30 अगस्त तक के बीच गंगा, यमुना, गंडक आदि नदियों से देश के बड़े भूभाग में बाढ़ का खतरा रहेगा।

https://navbharattimes.indiatimes.com/(सचिन मल्होत्रा/ज्योतिषशास्त्री

sachin.keepsmiling@gmail.com)

कोरोना की चौथी लहर (4th Wave) को लेकर क्या है ज्योतिषी की भविष्यवाणी

सूर्य के वृष राशि में चलेंगे 15 मई से अगले 1 महीने आपकी राशि पर ऐसा रहेगा प्रभाव





Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.