RRB NTPC, करेंट अफेयर्स प्रश्न पत्र 52

RRB NTPC, करेंट अफेयर्स प्रश्न पत्र 52

हिंदी सामान्य ज्ञान (GK in Hindi) तथा हिंदी करेंट अफेयर्स को समर्पित वेबसाइट है. यह वेबसाइट प्रतियोगिता परीक्षाओं जैसे SSC, IBPS, Banking, Rajasthan RPSC, RRB, UPSC इत्यादि प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण है

 

1. भारत ने मलेरिया के उन्मूलन के लिए कौन सा अभियान लांच किया गया है?
उत्तर – मेरा इंडिया
भारतीय मेडिकल अनुसन्धान परिषद् ने हाल ही में मेरा (MERA : Malaria Elimination Research Alliance) इंडिया अभियान लांच किया। इस अभियान का उद्देश्य 2030 तक भारत में मलेरिया के रोग का उन्मूलन करना है। गौरतलब है कि भारत ने मलेरिया रोग को नियंत्रित करने में काफी अच्छी सफलता प्राप्त की है। वर्ष 2000 में भारत में मलेरिया के 2.03 मिलियन मामले थे, जबकि 2018 में भारत में मलेरिया के 0.39 मिलियन मामले हैं, भारत में मलेरिया के मामलों में 2000 से अब तक 80% की कमी आई है। वर्ष 2000 में मलेरिया के कारण 932 मौतें हुई थीं, जबकि 2018 में मलेरिया के कारण 85 मौतें हुई, इसमें 90% की कमी आई है।
मलेरिया
मलेरिया मच्चार के कारण होने वाला रोग है, एक एक संक्रामक रोग है। मलेरिया एनोफीलीज़ मादा मच्छर के काटने से होता है। यह पैरासाईंटिक प्रोटोजोआ के कारण होता है। जब संक्रमित मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो परजीवी इस व्यक्ति के यकृत (लीवर) में तेज़ी से बढ़ना शुरू हो जाते हैं। यह शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) को संक्रमित करके नष्ट कर देता है। शुरूआती निदान से मलेरिया को नियंत्रित किया जा सकता है।
मलेरिया के लक्षण
सर्दी-ज़ुकाम
बुखार
सांस लेने में तकलीफ
असामान्य रक्त बहाव
रक्ताल्पता (एनीमिया) के लक्षण

2. विश्व बौद्धिक सम्पदा दिवस कब मनाया जाता है?
उत्तर – 26 अप्रैल
प्रतिवर्ष 26 अप्रैल को विश्व बौद्धिक सम्पदा दिवस मनाया जाता है। इसकी स्थापना वर्ष 2000 में विश्व बौद्धिक सम्पदा संगठन (WIPO) द्वारा की गयी थी। इसका उद्देश्य पेटेंट, कॉपीराइट, ट्रेडमार्क तथा डिजाईन के महत्त्व के बारे में जागरूकता फैलाना है। 26 अप्रैल को विश्व बौद्धिक संपदा दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन 1970 में विश्व बौद्धिक संपदा संगठन की स्थापना के लिए समझौता लागू हुआ था। इस वर्ष विश्व बौद्धिक संपदा दिवस की थीम “रीच फॉर गोल्ड : इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी एंड स्पोर्ट्स” है।
विश्व बौद्धिक सम्पदा संगठन (WIPO)
विश्व बौद्धिक सम्पदा संगठन संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी है, इस वैश्विक संस्था का कार्य बौद्धिक संपदा अधिकारों की रक्षा तथा संवर्द्धन करना है। इसकी स्थापना 1967 में की गयी थी, इसका मुख्यालय स्विट्ज़रलैंड के जिनेवा में स्थित है। इसका उद्देश्य रचनात्मक गतिविधियों को बढ़ावा देना है तथा विश्व भर में बौद्धिक सम्पदा के अधिकारों की रक्षा के लिए कार्य करना है। वर्तमान में इस संस्था में कुल 188 देश शामिल हैं। भारत भी इसका सदस्य है।

3. हाल ही में सुर्ख़ियों में रहे दिव्यांश सिंह पंवर किस खेल से सम्बंधित हैं?
उत्तर – निशानेबाज़ी
दिव्यांश पंवर ने हाल ही में ISSF विश्व कप में 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में रजत पदक जीता, इसके साथ ही उन्होंने 2020 टोक्यो ओलंपिक्स के लिए क्वालीफाई कर लिया है। इसी इवेंट में उन्होंने 10 मीटर एयर राइफल मिश्रित टीम इवेंट में अंजुम मोदगिल के साथ स्वर्ण पदक जीता।

4. हाल ही में किस बैंक ने भारत में पहली बार कम ब्याज दर वाला “ग्रीन कार लोन” लांच किया है?
उत्तर – भारतीय स्टेट बैंक
भारतीय स्टेट बैंक ने भारत का पहला “ग्रीन कार लोन” (विद्युत् वाहन) लांच किया है। इसका उद्देश्य लोगों को विद्युत् वाहन खरीदने के लिए प्रेरित करना है। इस नई योजना के तहत 20 बेसिस पॉइंट कम दर पर ऋण दिया जाएगा। इसके अलावा ऋण लेने वाले ग्राहकों को ऋण वापसी का अधिक समय दिया जाएगा। प्रति एक लाख रुपये पर EMI 96 महीनों के लिए 1,468 रुपये होगी। भारत सरकार ने 2030 तक कुल वाहनों में 30% विद्युत् वाहन शामिल करने का लक्ष्य रखा है, यह ऋण योजना इसी लक्ष्य के अनुकूल है।

5. हाल ही में किस देश के वैज्ञानिकों ने “रयुगु” नामक क्षुद्रग्रह पर कृत्रिम क्रेटर का निर्माण किया?
उत्तर – जापान
जापान के वैज्ञानिक रयुगु क्षुद्रग्रह पर सफलतापूर्वक कृत्रिम क्रेटर का निर्माण किया है। इस महीने के आरम्भ में जापान के हायाबुसा 2 मिशन ने रयुगु क्षुद्रग्रह की सतह पर विस्फोटक गिराया था। इसका उद्देश्य सौर मंडल के निर्माण के बारे में जानकारी प्राप्त करना है।
हायाबुसा 2 जापानी अन्तरिक्ष एजेंसी द्वारा भेजा गया मिशन है। इससे पहले हायाबुसा नाम से एक अन्य मिशन भेजा गया था जो 2010 में क्षुद्रग्रह के नमूने लेकर वापस आया था। हायाबुसा 27 जून, 2018 को रयुगु क्षुद्रग्रह पर पहुंचा था। यह डेढ़ वर्ष तक रयुगु क्षुद्रग्रह का अध्ययन करेगा तथा बाद में नमूने वापस लेकर पृथ्वी पर लौटेगा। यह मिशन संभवतः दिसम्बर, 2020 तक पृथ्वी पर सैंपल लेकर वापस लौटेगा।

6. विश्व प्रतिरक्षण सप्ताह 2019 की थीम क्या है?
उत्तर – Protected Together: Vaccines Work!
इस वर्ष विश्व प्रतिरक्षण सप्ताह 24 से 30 अप्रैल के बीच मनाया जा रहा है। इसकी थीम “एक साथ सुरक्षित : टीके काम करते हैं” (Protected Together: Vaccines Work!) रखी गयी है। इसके द्वारा उन सभी लोगों के प्रति सम्मान व्यक्त किया जाता है जिन्होंने सभी आयुवर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण सुनिश्चित करवाने में भूमिका निभाई, इसमें अभिभावक, हेल्थ वर्कर तथा इन्नोवेटर शामिल हैं।
विश्व प्रतिरक्षण सप्ताह (World Immunization Week)
प्रतिवर्ष अप्रैल के अंतिम सप्ताह को विश्व प्रतिरक्षण सप्ताह के रूप में मनाया जाता है, इसका उद्देश्य सभी आयुवर्ग के लोगों को टीकाकरण की सहायता से बिमारियों से सुरक्षित रखना है।
उद्देश्य
• स्वास्थ्य के लिए टीकाकरण की भूमिका को रेखांकित करना।
• प्रतिरक्षण के अधिक से अधिक लोगों के लिए सुनिश्चित करने के लिए कार्य करना।
• स्वास्थ्य के लिए नियमित प्रतिरक्षण के लाभ को रेखांकित करना।
विश्व प्रतिरक्षण सप्ताह का आदर्श वाक्य “सभी आयु वर्ग के लोगों की रक्षा टीकाकरण” से करना है। विश्व प्रतिरक्षण सप्ताह को पहली बार 2012 में आयोजित किया गया था।

7. इंडोनेशिया ने रामायण की थीम पर एक विशेष डाक टिकट जारी किया, इसे किसके द्वारा डिजाईन किया गया है?
उत्तर – बापक न्योमन नुआर्ता
भारत-इंडोनेशिया राजनयिक संबंधों की स्मृति इंडोनेशिया में रामायण पर जारी विशेष डाक टिकट किया गया है। भारत और इंडोनेशिया के बीच राजनयिक संबंधों के 70 वर्ष पूरे हो गये हैं। इस स्टैम्प को इंडोनेशिया के बापक न्योमन नुअर्ता द्वारा डिजाईन किया गया है। इस स्टैम्प में रामायण का एक दृश्य चित्रित किया गया है जिसमे में जटायु को माता सीता की रक्षा के लिए वीरतापूर्वक लड़ते हुए दिखाया गया है।
मुख्य बिंदु
प्रधानमंत्री की मई, 2018 में व्यक्त की गयी सहमती के आधार पर इंडोनेशिया के डाक विभाग ने रामायण की थीम पर विशेष डाक टिकेट जारी किये हैं, यह टिकट दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों की 70वीं वर्षगाँठ के समारोह के उद्घाटन के अवसर पर जारी किये गये। विशेष स्मृति डाक टिकटों का वितरण डाक विभाग द्वारा उद्घाटन समारोह के दौरान किया गया। जबकि विशेष हस्ताक्षर किये गये टिकटों को जकार्ता के फिलेटली म्यूजियम में प्रदर्शनी के लिए रखा जायेगा। जकार्ता में भारतीय दूतावास ने इंडोनेशिया के विदेश मंत्रालय के साथ मिलकर दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 70 वर्षगाँठ के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया। इस इवेंट के उद्घाटन समारोह में इंडोनेशिया के विदेश मंत्रालय के उप-मंत्री अब्दुर्रहमान मोहम्मद फाचिर तथा इंडोनेशिया में भारतीय एम्बेसडर प्रदीप कुमार रावत शरीक हुए।

8. हाल ही में सुर्ख़ियों में रहा बेपी कोलोंबो मिशन किस अन्तरिक्ष एजेंसी से सम्बंधित है?
उत्तर – ESA तथा JAXA
जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी तथा यूरोपियन स्पेस एजेंसी के बेपी कोलोंबो मिशन ने विभिन्न परीक्षणों की श्रृंखला पास कर ली है, इस मिशन पृथ्वी के निकट का कमीशनिंग फेज़ भी पूरा कर लिया है। अब बेपी कोलोंबो बुध ग्रह की यात्रा के लिए तैयार है।
जापान तथा यूरोप की अन्तरिक्ष एजेंसियों ने मिलकर बुध गृह के लिए बेपी कोलोंबो अन्तरिक्ष यान लांच किया था। इस अन्तरिक्ष यान को फ्रेंच गुयाना से लांच किया गया था। यह अन्तरिक्ष यान 7 वर्ष बाद बुध गृह तक पहुंचेगा। इसके बाद यह अन्तरिक्ष यान बुध गृह की परिक्रमा करेगा।
मुख्य बिंदु
इस मिशन के लिए यूरोपीय अन्तरिक्ष एजेंसी (ESA) तथा जापानी अन्तरिक्ष अनुसन्धान एजेंसी (JAXA) ने मिलकर कार्य किया, इस मिशन की लागत लगभग 2 अरब डॉलर थी। बेपी कोलोंबो अन्तरिक्ष यान को एरियन 5 राकेट की सहायता से लांच किया। यह अन्तरिक्ष यान सात वर्ष के बाद बुध गृह के निकट पहुंचेगा तथा बुध ग्रह का निरीक्षण शुरू करेगा। यह अन्तरिक्ष यान बुध की सतह तथा वायुमंडल का अध्ययन करेगा। इससे पहले नासा ने बुध गृह के अध्ययन के लिए मैसेंजर नामक यान भेजा था, चार वर्ष तक कार्य करने के बाद 2015 में इसका मिशन समाप्त हुआ था।

9. सेशेल्स में भारत का नया उच्चायुक्त किसे नियुक्त किया गया?
उत्तर – दलबीर सिंह सुहाग
भारतीय सेना के पूर्व प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग को सेशल्स में भारतीय उच्चायुक्त नियुक्त किया गया है। वे शीघ्र ही अपना कार्यभार संभालेंगे।
रोचक तथ्य : 2016 में जब भारतीय सेना ने पाक अधिकृत कश्मीर में घुसकर आतंकवादियों पर सर्जिकल स्ट्राइक की थी, तब जनरल दलबीर सिंह सुहाग भारतीय सेना के प्रमुख थे।
जनरल दलबीर सिंह सुहाग
जनरल दलबीर सिंह सुहाग भारतीय सेना के 26वें प्रमुख थे, सेना प्रमुख के रूप में उन्होंने 31 जुलाई, 2014 से 31 दिसम्बर, 2016 के बीच कार्य किया। इससे पहले वे उप-सेना प्रमुख थे। जनरल दलबीर सिंह सुहाग का जन्म 28 दिसम्बर, 1954 को हरियाणा के झज्जर में हुआ था। उनके पिताजी भारतीय सेना में सूबेदार मेजर थे। दलबीर सिंह सुहाग को 16 जून, 1974 को 5 गोरखा राइफल्स की चौथी बटालियन में कमीशन किया गया था। अपने सैन्य करियर में जनरल दलबीर सिंह सुहाग को परम विशिष्ट सेवा मैडल, उत्तम युद्ध सेवा मैडल, अति विशिष्ट सेवा मैडल, विशिष्ट सेवा मैडल तथा लीजन ऑफ़ मेरिट से सम्मानित किया जा चुका है।
सेशल्स
सेशल्स हिन्द महासागर में स्थित एक द्वीपीय देश है। इसका क्षेत्रफल 459 वर्ग किलोमीटर है। इसकी जनसँख्या लगभग 94,000 है। सेशल्स ने 29 जून, 1976 को यूनाइटेड किंगडम से स्वतंत्रता प्राप्त की थी। सेशल्स में 100 से अधिक द्वीप मौजूद हैं।

10. रंजन गोगोई के विरुद्ध यौन शोषण के मामले की जांच के लिए गठित पैनल में जस्टिस एन.वी. रमण के साथ पर किस न्यायधीश को शामिल किया गया है?
उत्तर – जस्टिस इंदु मल्होत्रा
जस्टिस इंदु मल्होत्रा को मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई के विरुद्ध यौन शोषण के मामले की जांच के लिए गठित पैनल में शामिल किया गया है, उन्हें इस पैनल में एन.वी. रमण के स्थान पर शामिल किया गया है
23 अप्रैल, 2019 को सर्वोच्च न्यायालय ने मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई के विरुद्ध यौन शोषण के मामले की जांच के लिए पैनल का गठन किया था। इस पैनल का नेतृत्व जस्टिस एस. ऐ. बोबडे कर रहे हैं। इस जांच पैनल में जस्टिस एन. वी. रमण तथा जस्टिस इंदिरा बनर्जी भी शामिल थे। एन.वी. रमण ने स्वयं को इस पैनल से अलग कर लिया है। दरअसल हाल ही में पीड़िता ने जांच पैनल को पत्र लिख कर आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा था कि जस्टिस रमण मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई की करीबी मित्र हैं इसलिए उन्हें जांच पैनल से हटाया जाना चाहिए।
पृष्ठभूमि
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई पर 35 वर्षीय महिला ने यौन शोषण के आरोप लगाये थे, मुख्य न्यायधीश के विरुद्ध यौन शोषण के इस मामले के लिए सर्वोच्च न्यायालय ने 20 अप्रैल, 2019 को विशेष बेंच का गठन किया था, इस बेंच में रंजन गोगोई, अरुण मिश्र तथा संजीव खन्ना शामिल थे। इस बेंच ने महिला द्वारा लगाए गये आरोपों को गलत करार दिया और आरोपों को निराधार बताया। इस दौरान पीठ ने कहा कि यह न्यायपालिका की स्वतंत्रता को नष्ट करने का प्रयास है।
19 अप्रैल, 2019 को मुख्य न्यायधीश के आवासीय कार्यालय में कार्य करने वाली कनिष्ठ न्यायालय सहायक ने सर्वोच्च न्यायालय के 22 न्यायधीशों को पत्र लिखकर मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई पर यौन शोषण का आरोप लगाया था।
जस्टिस रंजन गोगोई
जस्टिस रंजन गोगोई का जन्म 18 नवम्बर, 1954 को हुआ था, वे असम के निवासी हैं। वे असम के पूर्व मुख्यमंत्री केशब चन्द्र गोगोई के पुत्र हैं। उन्होंने आरम्भ में गुवाहाटी उच्च न्यायालय में कार्य किया। फरवरी, 2001 में उन्हें उच्च न्यायालय में स्थायी न्यायधीश के रूप में नियुक्त किया गया। सितम्बर, 2010 में उनका स्थानांतरण पंजाब व हरियाणा उच्च न्यायालय में किया गया जहाँ फरवरी, 2011 में उन्हें मुख्य न्यायधीश नियुक्त किया गया। अप्रैल, 2012में उनकी नियुक्ति देश के सर्वोच्च न्यायालय में हुई थी।

Add a Comment

Your email address will not be published.