sanjay raut latest statement: Sanjay Raut tweets after saying Sena ready to leave MVA ‘Doors of the house open…’: Big statement by Sanjay Raut, Shiv Sena ‘ready’ to dump Congress and NCP if: Ready to discuss pulling out of MVA, come back in a day Sanjay Raut to rebels: ‘उद्धव बहुत जल्द वर्षा लौटेंगे…’, राउत ने शिवसेना के 21 बागी विधायकों के समर्थन का किया दावा


Maharashtra Political Crisis: महाराष्‍ट्र में गुटबाजी से जूझ रही शिवसेना ने बड़ा दावा किया है। उसका कहना है कि एकनाथ शिंदे के नेतृत्‍व में गुवाहाटी में डेरा डाले बागी खेमे के 21 विधायकों ने पार्टी से संपर्क किया है। शिवसेना में दो-फाड़ के चलते महाराष्‍ट्र में महाविकास अघाड़ी (MVA) सरकार पर संकट के बादल छाए हुए हैं। शिवसेना नेता संजय राउत ने गुरुवार को यह भी कहा कि उद्धव ठाकरे बहुत जल्द वर्षा बंगले में वापस आएंगे।

राउत ने दावा किया कि 21 विधायकों ने पार्टी से संपर्क किया है। जब वो मुंबई लौटेंगे तो पार्टी के साथ आएंगे। बुधवार रात मुख्यमंत्री का आधिकारिक आवास खाली करने वाले उद्धव ठाकरे बहुत जल्द वर्षा बंगले में लौटेंगे।

इस बीच शिवसेना सांसद विनायक राउत ने दावा किया कि कम से कम 18 विधायक पार्टी के संपर्क में हैं। सांसद ने कहा, ‘गुवाहाटी में कम से कम 18 विधायकों ने मुंबई में शिवसेना नेताओं से संपर्क किया है। उनमें से कई जल्द ही लौट आएंगे।’

गद्दार, गद्दार, गद्दार… शिव सैनिकों का उबल रहा खून, किसकी तस्‍वीरों पर पोत रहे कालिख?

इससे पहले संजय राउत ने गुरुवार को कहा कि अगर बागी विधायक यही चाहते हैं कि शिवसेना एमवीए गठबंधन से बाहर आ जाए तो वह इसके लिए तैयार है। राउत ने कहा, ‘विधायकों को गुवाहाटी से संवाद नहीं करना चाहिए। उन्हें मुंबई वापस आना चाहिए। सीएम के साथ इस पर चर्चा करनी चाहिए। हम सभी विधायकों की इच्छा होने पर एमवीए से बाहर निकलने पर विचार करने के लिए तैयार हैं। लेकिन, इसके लिए उन्हें यहां आना होगा। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ चर्चा करनी होगी।’

शिवसेना के रुख में इस बदलाव ने कांग्रेस और एनसीपी को चौंकाया है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने कहा कि वह चाहती है कि गठबंधन सरकार अपना कार्यकाल पूरा करे। कांग्रेस और एनसीपी एमवीए में गठबंधन सहयोगी हैं। NCP नेता और महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजीत पवार ने कहा कि सरकार को बचाना तीनों दलों (एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना) की जिम्मेदारी है। संजय राउत ही जानते हैं कि उन्होंने ऐसा बयान क्यों दिया।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राउत ने बागियों से कहा कि बगावत करने वाले विधायकों के लिए पार्टी के दरवाजे खुले हैं। सभी मुद्दों को बातचीत से सुलझाया जा सकता है। तीन दिन पहले शिवसेना के कैबिनेट मंत्री एकनाथ शिंदे के विद्रोह से एमवीए सरकार में पैदा हुए राजनीतिक संकट के बीच पार्टी के तीन और विधायक बागी खेमे में शामिल होने के लिए बीजेपी शासित असम में गुवाहाटी के लिए रवाना हो गए।

Eknath Shinde News: चाहे उद्धव की शिवसेना हो या बीजेपी, क्या एकनाथ शिंदे को बनाएगी सीएम?

वहीं, शिंदे ने एनसीपी और कांग्रेस से गठजोड़ तोड़ने की मांग करते हुए एमवीए को ‘अप्राकृतिक’ गठबंधन करार दिया है। शिंदे फिलहाल शिवसेना के 37 बागी विधायकों और नौ निर्दलीय विधायकों के साथ गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं।

बागी नेता ने महाराष्ट्र विधानसभा के उपाध्यक्ष को एक पत्र दिया था। इस पर शिवसेना के 35 विधायकों ने हस्ताक्षर किए थे। इसमें सुनील प्रभु की जगह भरत गोगावले को शिवसेना विधायक दल का मुख्य सचेतक बनाया गया था। उपाध्यक्ष नरहरि जिरवाल ने कहा कि उन्होंने बागी विधायक एकनाथ शिंदे की जगह अजय चौधरी को सदन में शिवसेना का विधायक दल का नेता नियुक्त किए जाने को मंजूरी दे दी है।

शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे ने गुरुवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को संबोधित कर एक पत्र ट्वीट किया। इसे कैप्शन दिया, ‘यह विधायकों की भावना है।’ पत्र के अनुसार, शिवसेना नेताओं की मुख्यमंत्री आवास तक पहुंच नहीं है।’



Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.