Tag: Hindi Poetry

काव्य- हे प्रभु (Kavya- Hey Prabhu) | Hindi Poetry | Top Kavya

हे प्रभु यदि तुम्हारे साथ भी मुझे कुछ कहने से पहले सोचना पड़े अर्थात अच्छे-बुरे सही-ग़लत का विचार करना पड़े तो फिर तुम परमात्मा कहां...